May 26, 2022

श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वाल्व रिप्लेसमेंट (टीएवीआर) तकनीक से सफल कॉर्डियक प्रोसीजर

श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वाल्व
रिप्लेसमेंट (टीएवीआर) तकनीक से सफल कॉर्डियक प्रोसीजर

 60 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के वरिष्ठजन मरीजों के लिए टीएवीआर तकनीक जीवनदायिनी
 श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के चेयरमैन श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने दी बधाई

देहरादून। श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के ह्दय रोग विभाग में ट्रांसकैथेटर एओर्टिक वाल्व रिप्लेसमेंट (टीएवीआर) तकनीक से सफल कॉर्डियक प्रोसीजर किया गया। देश व दुनिया में उपलब्ध कॉडियोलॉजी उपचार की अब तक की सबसे आधुनिक तकनीकों में से टीएवीआर कॉर्डियक प्रोसीज़र सबसे नवीन, प्रभावी व अत्याधुनिक तकनीक है। टीएवीआर तकनीक को वर्ष 2011 में पहली बार भारत में किसी मरीज़ पर प्रयोग के लिए लाया गया। टीएवीआर तकनीक से किसी ह्दय रोगी का उपचार होना श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल सहित उत्तराखण्ड के समस्त मेडिकल जगत के लिए गौरवमयी उपलब्धि है। श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के चेयरमैन श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने कॉर्डियोलॉजिस्ट डॉ तनुज भाटिया व उनकी पूरी टीम को टीएवीआर तकनीक से किये गए सफल प्रासीज़र की बधाई व शुभकामनाएं दीं।
श्री राधोश्माम (74) निवासी देहरादून को लंबे समय से ह्दय रोग सम्बन्धित बीमारी की शिकायत थी। बीमारी की वजह से उन्हें सांस फूलना, चलने में परेशानी, हल्की खांसी, सीने में भारीपन व बैठे बैठे अचानक बेहोशी की परेशानियां थंीं। मेडिकल साइंस मंे इस बीमारी को एओआरटिक स्टेनोसिस (महाधमनी में अवरोध की शिकायत) कहा जाता है। श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के वरिष्ठ ह्दय रोग विशेषज्ञ व कैथ लैब डायरेक्टर डॉ तनुज भाटिया ने इनका प्रारम्भिक परीक्षण किया व जॉचें करवाई। जॉचों में एओआरटिक स्टेनोसिस (महाधमनी में अवरोध की शिकायत) की पुष्टि हुई। डॉ. तनुज भाटिया ने टीएवीआर तकनीक से उपचार का निर्णय लिया। श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल की आधुनिक कैथ लैब में 3 घण्टे तक चले प्रोसीजर मंे मरीज़ का सफल उपचार किया गया। उपचार के बाद मरीज़ स्वस्थ्य हैं व उन्हें अस्पताल से दो दिनों में छुट्टी दे गई है।

एओआरटिक स्टेनोसिस: सर्जरी बनाम टीएवीआर तकनीक
एओआरटिक स्टेनोसिस का उपचार ओपन हार्ट सर्जरी विधि व टीएवीआर तकनीक में उपलब्ध है। एओआरटिक स्टेनोसिस का उपचार ओपन हार्ट सर्जरी विधि से करना अधिक जटिल व जोखिम भरा है। इसकी तुलना मंे टीएवीआर तकनीक में मरीज़ 3 या 4 दिन भर्ती रखकर मरीज़ को आसानी से छुट्टी दे दी जाती है। 60 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के वरिष्ठजनों के एओआरटिक स्टेनोसिस उपचार के लिए लिए टीएवीआर तकनीक जीवनदायिनी तकनीक है।
16 अप्रैल 2002 को फ्रांस मंे पहली बार टीएवीआर तकनीक का इस्तेमाल कर ह्दय रोगी का सफल प्रोसीजर किया गया था। यह बेहद खुशी की बात है कि श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में भी इसी दिन 16 अप्रैल 2022 को श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में पहली बार टीएवीआर तकनीक से सफल प्रोसीजर हुआ है। टीएवीआर तकनीक आधुनिक ह्दय उपचार का वरदान है, हार्ट सर्जरी की तुलना में इस प्रोसीज़र मेे जोखिम बेहद कम है। 60 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के वरिष्ठजन मरीजों के लिए टीएवीआर तकनीक बेहद कारगर है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोशल मीडिया वायरल

error: Content is protected !!