March 4, 2024

बागेश्वर की जीत से मोदी जी का धामी जी पर बढ़ता विश्वास ।

 

जब उत्तराखण्ड 2022 के विधानसभा चुनाव में जिन 70 सत्तर सीटों में से आप की जमानत बची थी तो उनमें से एक सीट थी बागेश्वर ओर वह प्रत्याशी बसन्त कुमार थे जिन्होंने लगभग 16100 मत प्राप्त करे वही कोंग्रेश प्रत्यासी लगभग 20100 ओर दोनों के मिलाकर लगभग 36000 वोट होते हैं जबकि 2022 में स्वर्गीय चंदस दस जी को 32000 लगभग वोट मिले थे जो महागठबंधन से 4000 कम थे जो अभी देश मे बने महागठबन्दन के बाद बड़ी चुनोती थी और 4000 यह चाहिए थे और जीत के लिए भी वोट की आवश्यकता थी सांथ ही उप चुनाव में लगभग आठ दस हजार वोट का कम होने का अंदेशा इन आदेशों ओर चुनोतियो को धामी जी ने समय रहते भांप लिया चुनाव का रुख ओर अंतिम समय मे लग गए मिशन विजयी बागेश्वर में और मोदी जी के धर्मस्थलों में किये जा रहे विकास ,उत्तराखण्ड के प्रति उनका प्रेम और विश्व मे भारत की बढ़ते सम्मान, मोदी जी विकास योजनाओं के प्रचार किया उसके सांथी ही अपने कार्यकाल के हित के लिए उत्तराखण्ड के हित में धर्मांतरण ओर नकल विरोधी कानून बनाने से हुए युवाओं के लाभ महिलाओं को दिये गए क्षेतिज आरक्षण जैसे निर्णयों सांथ ही प्रतिभावान विद्यार्थियों की हो रही लगातर भर्तियां जैसे कार्यों को लेकर दो दिनी प्रवास कर जमकर अपनी पार्टी के पक्ष में जनता से मतदान करने का निवेदन किया जिसका नतीजा महागठबंधन की मजबूत सीट को धामी जी की व्यूह रचना ने कठिन सीट को जीतकर मोदी जी और अपने नरेतत्व को साबित कर दिया जिससे मोदी जी का एक बार पुनः विश्वास जीतते हुए उत्तराखण्ड में गुजरात मध्यप्रदेश की तर्ज पर यह साबित कर दिया कि मोदी जी ने जो विश्वाश उन्हें एक स्थायी मुख्यमंत्री बनाकर किया है उसमें वह सटीक बैठते जा रहे है और जो पार्टी के भीतर उन्हें जो नेता मानने में संकोच करते थे या कहे अपनी बयान बाजी से पार्टी की सरकार पर सवाल उठाने का प्रयास करते थे उनके बहु मुह पर ताला लगेगा ।
बागेश्वर उपचुनाव की जीत में कैसे चला सीएम धामी का करिश्मा, समझिए इन आंकड़ों से, पहाड़ में सीधे मुकाबले में कम बड़ी नहीं है 2405 वोटो की जीत, पार्टी के भीतर कुछ को हजम नहीं हो रही ये जीत
देहरादून। बागेश्वर उपचुनाव का नतीजा आए आज चार दिन हो चुके हैं। भाजपा प्रत्याशी पार्वती देवी 2405 वोटों से चुनाव जीत चुकी है। भाजपा प्रत्याशी की ये जीत पार्टी के भीतर ही कई लोगों को हजम नहीं हो रही है। जबकि 2022 का मुख्य चुनाव और 2023 के उपचुनाव के नतीजों के आंकड़े कुछ और ही कहानी बयां कर रहे हैं। उपचुनाव के सीधे मुकाबले में 2405 वोटों की जीत मामूली नहीं है। आंकड़े तस्दीक कर रहे हैं कि किस तरह बागेश्वर उपचुनाव में सीएम पुष्कर सिंह धामी का जादू चला। किस तरह सीएम धामी के दो दिन के चुनावी दौरे ने पूरे चुनाव की तस्वीर ही पलट दी।
बागेश्वर उपचुनाव 2023 कई मायनों में मुख्य चुनाव 2022 से बिल्कुल अलग रहा। 2022 में जहां मुकाबला त्रिकोणीय था, वहीं 2023 में सीधा मुकाबला था। कांग्रेस के मौजूदा प्रत्याशी रहे बसंत कुमार 2022 के चुनाव में आम आदमी पार्टी से प्रत्याशी थे और चुनाव में 16100 वोट हासिल करने में सफल रहे थे। जबकि कांग्रेस प्रत्याशी को 20100 वोट मिले थे। भाजपा से चुनाव जीते चंदनराम दास को 32 हजार वोट मिले थे। इस तरह यदि 2022 में कांग्रेस और आप के वोट मिला दिए जाते, तो भाजपा 2022 में करीब चार हजार वोट पीछे थे। इस बार बसंत कुमार कांग्रेस के ही टिकट से चुनाव मैदान में थे। इस तरह वो 2022 के चुनाव को देखते हुए 36 हजार वोट की मनोवैज्ञानिक बढ़त में थे। क्योंकि आप के टिकट पर 16 हजार वोट हासिल करके उन्होंने साबित कर दिया था कि ये 16 हजार वोट उनका अपना वोट बैंक है। इस वोट में कांग्रेस के 20 हजार वोट जुड़ने से आंकड़ा 36 हजार के पास पहुंच गया था।
2023 के उपचुनाव में सीधा मुकाबला होने से ये साफ था कि चुनाव कांटे का रहेगा। भाजपा को न सिर्फ कांग्रेस, आप के 36 हजार वोट के हिसाब से अपनी फिल्डिंग सजानी थी, बल्कि जीत का मार्जिन भी बढ़ाना था। 2022 के मुकाबले देखा जाए तो बसंत कुमार के रूप में कांग्रेस को साढ़े पांच हजार वोट कम मिला है। जबकि भाजपा उपचुनाव में पांच प्रतिशत कम वोटिंग होने के बावजूद अपना वोटबैंक 2022 के मुकाबले बढ़ाने में कामयाब रही। 2022 में स्व. चंदनराम दास को 32 हजार वोट मिले थे, जबकि इस बार पार्वती देवी को 33247 वोट मिले। जबकि वोटिंग पिछले चुनाव के मुकाबले कम रही। यूकेडी, सपा, परिवर्तन पार्टी नाममात्र के वोटों में ही सिमट कर रह गई।
इसके साथ ही कांग्रेस प्रत्याशी ने कुछ कारणों से पूरे क्षेत्र में अपने लिए सहानुभूति का ग्राफ बहुत बढ़ा दिया था। जो लोग मान कर चल रहे थे कि चंदनराम दास के निधन के बाद सहानुभूति पार्वती देवी को मिलेगी, लेकिन वो सहानुभूति कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में रही। भाजपा के भीतर भी एक गुट को चुनाव नतीजे विपरीत आने का ज्यादा इंतजार था। अंदरखाने फिल्डिंग इस तरह सजाई जा रही थी कि चुनाव नतीजे विपरीत आते ही दिल्ली दौड़ लगाई जाए और राज्य को फिर अस्थिरता की ओर धकेल दिया जाए।
इन तमाम लोगों के मंसूबों पर पानी फेरते हुए बागेश्वर उपचुनाव के अंतिम दिन सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कमान अपने हाथ में ली। धुंआधार प्रचार करते हुए रोड शो निकाल माहौल बनाया। सीएम के प्रचार अभियान, दौरों, रोड शो में स्वतस्फूर्त उमड़ी भीड़ ने कहानी बयां कर दी थी कि नतीजे कहीं नहीं बदलने वाले, जीत पक्की है। पीएम मोदी के विकास कार्यों, केंद्र और राज्य सरकार के विकास कार्यों से जनता को जोड़ने वाले सीएम धामी ने जनता में विश्वास जगाया। लैंड जेहाद, लव जेहाद, सरकारी जमीनों पर बने अवैध धर्मस्थलों पर धामी सरकार की ताबड़तोड़ कार्रवाई ने लोगों में सरकार के प्रति विश्वास जगाया। जबरन धर्मांतरण विरोधी कानून बना कर धर्मरक्षक धामी के रूप में धर्म, संस्कृति की रक्षा का संकल्प दोहराया। सख्त नकल विरोधी कानून बना कर राज्य के युवाओं में विश्वास जगाया।
बागेश्वर की जनता ने भी सीएम धामी के कार्यों पर मुहर लगा कर भाजपा प्रत्याशी की जीत पक्की की। ये जीत भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के लिए भी कितनी अहम है, इसे इसी बात से समझा जा सकता है कि देश में हुए उपचुनाव में छह सीटों पर भाजपा को तीन में ही जीत मिली। यूपी की घोसी विधानसभा चुनाव में पार्टी को 24 हजार वोटों से करारी हार मिली। इन हालात में बागेश्वर की जीत बहुत बड़ी और बेहद अहम है। जिसे पार्टी के भीतर के ही कुछ 24 घंटे सपने में सीएम की कुर्सी का सपना देखने वाले हजम नहीं कर पा रहे हैं। न ही उन नेताओं से जुड़ी खबरनवीसों की टोली इस जीत को पचा पा रही है। इन तमाम दांवपेंच चलने वालों को नजरअंदाज करते हुए सीएम अपने कार्यों के दम पर लगातार राज्य और देश की राजनीति में अपना कद ऊंचा करते जा रहे हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोशल मीडिया वायरल

error: Content is protected !!