December 9, 2021

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर खास जानकारी: ये समय मानसिक स्वास्थ्य के बारे में दोबारा सोचने का है।

ये समय मानसिक स्वास्थ्य के बारे में दोबारा सोचने का है।

एक मानसिक स्वास्थ्य दिवस यहाँ और वहाँ, समस्याओं का समाधान नहीं करेगा। दो तरीके हैं जिनके द्वारा कंपनियां अपने कर्मचारियों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए मदद कर सकती है।

जब संशोधन किए जा रहे हों, तब मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बात करना आज भी वर्जित माना जाता है। जो मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बात करना और भी मुश्किल कर देता है। आज की परिस्थितियों में कंपनियों को अपने कर्मचारियों के लिए मानसिक स्वास्थ्य पर अपने विचार और सुझावों को रखने का दिन देना चाहिए- एक दिन जो काम के स्थान से हट कर आपको मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों पर बोलने की इजाज़त दे, फिर चाहे वो चिंता हो, अक्रियाशीलता हो, दबाव हो या अवसाद हो।
लोग शारीरिक बीमारी के लिए तो बात कर लेते हैं और एक दूसरे से पूछ भी लेते हैं। बहुत से लोग मानसिक रूप से बीमार वाले दिन के लिए पूछने पर बहुत परेशान हो जाते हैं। जब वे मानसिक रूप से अस्वस्थ महसूस करते है तो अकेले मेें उसे पूछा जाना चाहते है। अब हमें वास्तविकता बदलनी चाहिए।
एक कारण जिसकी वजह से लोग वास्तव में हिचकिचाते है मानसिक स्वास्थ्य का दिन लाने में, यहाँ तक कि उसके बारे में बात करने के लिए भी, वह है एक कलंक। मानसिक स्वास्थ्य पर खुल कर बात करना समाज मे एक कलंक की तरह देखा जाता है।
एक ज्ञान के लिए, या मानसिक स्वास्थ्य संघर्ष को साझा करने के लिए समय निकाला जा सकता है क्योंकि यह एक शारीरिक बिमारी है। मानसिक स्वास्थ्य के दिन के बारे में भ्रम तब और बढ़ जाता है जब कोई इस बारे में कुछ ऐसा सोचता है, जिसके क्रम में, मापदंड की एक निश्चित सूची से मिलना होता है। यदि आपको काम के दौरान बड़े तनाव से उबरने की जरूरत है तो क्या आप मानसिक स्वास्थ्य दिवस के हक़दार हैं? क्योंकि कोई व्यक्ति जिसकी चिंता उसके काम को मुश्किल बना रही है उसे मानसिक स्वास्थ्य के दिन की बहुत आवश्यकता है। कंपनियां, जो कि मानसिक स्वास्थ्य का दिन नहीं पूछती, मानसिक स्वास्थ्य के दिनों में काम करने के लिए व्यावहार मे और सामाजिक दोनों तरह से, दो तरीकों से इसे कर सकतीं हैं :

सिस्टम बदलना होगा :
कर्मचारियों के अच्छे मानसिक स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए संगठनों को एक सिस्टम बनाना होगा जो बेहतर स्वास्थ्य की इजाजत दे। संगठनों को ये समझना होगा कि कर्मचारी पहले से ही अपने मानसिक स्वास्थ्य के लिए समय लेने में लज्जित और कसूरवार महसूस करते हैं, यदि सिस्टम में इस तरह का प्रारूप है कि जहाँ किसीको अपने लिए लिये गये समय के बारे में व्याख्यान करना पड़ता है तो यह उनके तनाव को और बढ़ा देता है। आपको मानसिक स्वास्थ्य के बारे में वास्तव मे साधारण स्वास्थ्य की तरह ही सोचना होगा। इसे किसी असाधारण चीज की तरह नहीं देखना चाहिए। आपको इसके लिए समय निकालने के लिए किसी पहाड़ पर चढ़ने जैसा नहीं करना चाहिए और यह साबित नहीं करना चाहिए कि कुछ चल रहा है। ‘क्यों’ पर काम दबाव डालने के प्रयास में किसी को समय निकलने की आवश्यकता होती है। कुछ कंपनियां “व्यक्तिगत दिनों” की पेशकश कर रहीं हैं, जिनका उपयोग आप टन कर सकते हैं जब आपको बीमारी हो, क्योंकि आप वाकई तनावग्रस्त महसूस कर रहे हैं, क्योंकि आपको bacche को डॉक्टर के पास ले जाना है, या कुछ भी। आपको उन्हें किसी भी तरह से उचित सिद्ध करने, या कारण बताने की जरूरत नहीं है। और यदि आपकी कंपनी अभी तक व्यक्तिगत दिनों का उपयोग नहीं कर रही है तो कर्मचारियों को मानसिक स्वास्थ्य से निपटने के लिए एक बीमार दिन (sick day) का उपयोग करने के लिए सशक्त महसूस करना चाहिए।

उनका दृष्टिकोण बदलना होगा :
मानसिक स्वास्थ्य दिवस के लिए आम तौर पर यह एक तर्क सामने आता है। यह पता लगाने के बजाय व्यक्तियों पर जिम्मेदारी डालता है कि वे अपने स्वास्थ्य और खुशी की परवाह करें कि वे पहले स्थान पर उन भावनाओं को अनुभव क्यों कर रहे हैं। क्योंकि कार्यस्थल बड़े पैमाने पर संगठनात्मक या संकट की सामाजिक उत्पत्ति को संबोधित नहीं करते हैं, कर्मचारियों को अनिवार्य रूप से “इसे बाहर ले जाने” के लिए प्रोत्साहित किया जाता है और वे उत्पादकता के प्रयोजनों के लिए जल्दी और व्यक्तिगत रूप से अपनी मनोवैज्ञानिक पीड़ा को हल करते हैं। और क्योंकि काम और घरेलु जीवन के बीच की सीमाएं इतनी धुंधली हैं, एक दी कार्यालय से दूर होने के बावजूद अभी भी वहाँ का फैला हुआ तनाव रहेगा। यदि संगठन वास्तव में अपने कर्माचारियों के मनोवैज्ञानिक संकट को संबोधित और जवाब देना चाहते हैं तो उन्हें कई नयी वास्तविकताओं को पहचानने और प्रतिक्रिया देने की आवश्यकता है।
संगठन मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े नकारात्मक भ्रांतियों के लिए बहुत कुछ और कर सकतीं हैं, जो कि कुछ दिनों के बारे में नहीं है ब्लकि हर समय के लिए है। यदि मानसिक स्वास्थ्य को किसी घटना के बाद के झटके के प्रभाव के बजाय काम पर “प्राथमिकता” के रूप में देखा जाता है, तो स्वास्थ्य, सामन्य रूप से, सुधार होगा। आपके स्वास्थ्य पर एक दिन का ध्यान केंद्रित करना मददगार और महत्वपूर्ण निर्णय हो सकता है, लेकिन कदम उठाने होंगे, ताकि जब आप काम पर वापस आयें, तब भी आपके स्वास्थ्य का समर्थन हो।

बातें जो एक बॉस को मानसिक स्वास्थ्य से जुझ रहे कर्मचारियों से नहीं कहनी चाहिए :
* हालात उतरने बुरे नहीं हैं।
*बस, इससे बाहर निकलो।
*इसे बाहर निकालो।
*तुम हमेशा इतने उदास क्यों रहते हो।
*यह सब आप सोचते हो।
*यह आपकी अपनी गलती है।
*किसी ने भी नही कहा कि जीवन उचित है।
*आप इसे क्यों नहीं रोक देते।
*खुद पर तरस खाना बंद करो।
*तुम उदास मत दिखो।
*आपको अधिक मुस्कराने की आवश्यक्ता है।
*आप अपनी टीम को नीचे जाने दे रहे हो।
*हालात इतने बदतर हो सकते हैं।
*आपको शिकायत करना बंद करने की आवश्यकता है।
*आप कार्यालय मे हर किसी को नीचे ले जा रहे हैं।
*आपको ज्यादा निकालने की जरूरत है।
*आपको बड़ा होने की जरूरत है।
*ध्यान खींचने की कोशिश बंद करो।
*आपको उदास होने की क्या जरूरत है।
*आपको किसी बात की चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।

पवन शर्मा,
The Psychedelic,
FORGIVENESS FOUNDATION SOCIETY

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *